मुख्यमंत्री कोरोना बाल कल्याण योजना, कोरोना से अनाथ हुए बच्चों की पढ़ाई का खर्च उठाएगी सरकार

मुख्यमंत्री कोरोना बाल कल्याण योजना, कोरोना से अनाथ हुए बच्चों की पढ़ाई का खर्च उठाएगी सरकार: Mukhyamantri Corona Bal Kalyan Yojana 2022 राजस्थान सरकार ने कोरोना महामारी के कारण अनाथ हुए बच्चों की समुचित परवरिश के लिए “मुख्यमंत्री कोरोना बाल कल्याण योजना” की घोषणा की। इस योजना के तहत कोरोना महामारी से माता पिता दोनों की मृत्यु या एकल जीवित की मृत्यु होने पर अनाथ बच्चों को तत्काल एक लाख रुपये का अनुदान दिया जाएगा। मुख्यमंत्री कोरोना बाल कल्याण योजना के तहत ऐसे बच्चों को 18 साल की उम्र तक प्रतिमाह 2500 रुपये की सहायता राशि प्रतिमाह दी जाएगी तथा 18 साल की उम्र होने पर उन्हें पांच लाख रुपये की सहायता दी जाएगी। ऐसे बच्चों को 12वीं तक की शिक्षा आवासीय विद्यालय या छात्रावास के जरिए दी जाएगी।
Join Telegram Channel : Click Here
Join Whatsapp Group : Click Here

 

 

कोरोना से अनाथ हुए बच्चों की पढ़ाई का खर्च उठाएगी सरकार, मुख्यमंत्री कोरोना बाल कल्याण योजना

मुख्यमंत्री कोरोना बाल कल्याण योजना, कोरोना से अनाथ हुए बच्चों की पढ़ाई का खर्च उठाएगी सरकार

विधवाओं और उसके बच्चों के लिए ये सुविधा

किसी व्यक्ति की कोरोना से मृत्यु होने पर उसकी पत्नी को एक लाख रुपये की एकमुश्त (अनुग्रह राशि) सहायता की जाएगी। साथ ही ऐसी विधवाओं को 1500 रुपये प्रतिमाह विधवा पेंशन मिलेगी जो सभी आयु व आय वर्ग की महिलाओं को मिलेगी। इन विधवा महिलाओं के बच्चों को 1000 रुपये प्रति बच्चा प्रति माह तथा विद्यालय की स्कूल ड्रेस एवं किताबों के लिए सालाना 2000 रुपये का लाभ दिया जाएगा।
सरकारी योजनाएं : Click Here

 

कोरोना के कारण अनाथ हुए बच्चों को मिलेगी ये सुविधाएं

कोरोना महामारी से माता पिता दोनों की मृत्यु या एकल जीवित की मृत्यु होने पर अनाथ बच्चों को तत्काल एक लाख रुपये का अनुदान दिया जाएगा। मुख्यमंत्री कोरोना बाल कल्याण योजना के तहत ऐसे बच्चों को 18 साल की उम्र तक प्रतिमाह 2500 रुपये की सहायता राशि प्रतिमाह दी जाएगी तथा 18 साल की उम्र होने पर उन्हें पांच लाख रुपये की सहायता दी जाएगी। ऐसे बच्चों को 12वीं कक्षा तक की पढाई आवासीय विद्यालय अथवा छात्रावास के माध्यम से निःशुल्क उपलब्ध कराई जाएगी।

मुख्यमंत्री कोरोना बाल कल्याण योजना

कोरोना के कारण बेसहारा हई कॉलेज में अध्ययनरत छात्राओं को सामाजिक न्याय व आधिकारिता विभाग द्वारा संचालित छात्रावासों में प्राथमिकता से प्रवेश दिया जाएगा। कॉलेज छात्रों को आवासीय सुविधाओं के लिये “अंबेडकर डीबीटी वाउचर योजना” का लाभ मिलेगा तथा युवाओं को मुख्यमंत्री युवा संबल योजना के तहत बेरोजगारी भत्ता दिए जाने में प्राथमिकता से लाभ मिलेगा।

Leave a Comment

Join TelegramJoin WhatsApp